समर्थक

रविवार, 21 दिसंबर 2014

''सपने अभी और टूटेंगे ! ''




थोड़े आंसू बचा के रखना  ,
दर्द  दबा लेना इस दिल में ,
नहीं आखिरी गम ये अपना ,
सपने अभी और टूटेंगे !
......................................
किसे मनाएं मिन्नत कर के ,
कब तक मांगें रोज़ दुआएं  ,
मौत के आगे बेबस होकर ,
अपने अभी कई छूटेंगें !
.................................
नए ज़ख्म मिलते जाते हैं ,
पिछले भरते कहाँ यहाँ !
आहें रख सँभाल के अपनी ,
टीसों पर कब तक चीखेँगेँ !
..................................
ज़िंदा रहना है तो सुन लो ,
दिल को अपने सख़्त बना लो ,
हर एक हादसे पर ये बोलो ,
झुककर घुटने ना टेकेंगें !
...........................................
खिल्ली खूब उड़ा ले  मौत ,
हमको भी आता है जीना ,
जब तक साँस चलेगी अपनी ,
जीने की मौज़े लूटेंगें !
...........................................
घुट-घुट कर  न रोज़ मरेँगेँ ,
गम को नाक चिढ़ाएंगें ,
भले ज़िंदगी रूठे हमसे
हरगिज़ न पर हम रूठेंगें !

शिखा कौशिक 'नूतन'



शुक्रवार, 19 दिसंबर 2014

''काश न जाते बच्चे स्कूल !''

Image result for tribute flower images

 काश उस मनहूस दिन 
सूरज निकलने से 
कर देता मना !
.......................
काश अब्बा न जगाते
स्कूल जाने के लिए 
रोज़ की तरह  !
..........................
काश स्कूल के लिए 
तैयार होते समय 
 टूट जाता जूते का फीता 
और बन जाता 
न जाने का एक बहाना !
...................................
काश अम्मी ही कह देती 
क्या रोज़ रोज़ जरूरी है   
स्कूल जाना !
..................................
काश स्कूल में घुसने से पहले 
आतंकियों के 
कट जाते हाथ !
...............................
काश उस दिन 
ख़ुदा देता 
मासूमों  का साथ  !
............................
काश न जाते
बच्चे स्कूल 
और  
 गोलियों के जगह  
बंदूकों  से निकलते फूल !
...............................
कुछ न हो सका 
न हो पाया 
कोई दुआ न हुई क़ुबूल 
..............................
दरिंदगी की भेंट 
चढ़ गए 
नन्हे मुन्ने रसूल  !

शिखा कौशिक 'नूतन' 

बुधवार, 17 दिसंबर 2014

खून से नहला दिए , खिलखिलाते फूल !


Pakistan Taliban: Peshawar school attack 

 

दरिंदगी की इन्तहां ,
कैसा है ये जूनून !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !
...............................
अब्बा के दिल के टुकड़े थे ,
अम्मी के दुलारे ,
स्कूल की वर्दी में ,
लगते बड़े प्यारे ,
उनके ख्वाब पूरे करने 
जाते थे स्कूल !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !
....................................
पढ़ रहे थे क्लास में ;
साथियों के संग ,
आतंकियों ने घेर लिया 
रह गए वे दंग,
कातिलों ने गोलियों से 
ज़िस्म दिया भून !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !
...........................................
रैपर में बंद रह गयी 
कितनी ही टॉफियां ,
बिखरे पड़े स्कूल बैग 
किताब-कॉपियां ,
दरिंदगी ने कर ही डाला 
मासूमियत का खून !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !
...................................
हर तरफ मासूम चीखें ,
दर्द भरी आहें ,
देखती दरिंदगी 
मासूम निगाहें ,
मौत का वो नंगा नाच 
कैसे जाएँ भूल !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !
......................................
कायरों सुन लो ज़रा 
खोल कर तुम कान ,
फिर खिलेंगें फूल नए 
अधरों पे ले मुस्कान ,
हर अमन पसंद की
होगी दुआ क़ुबूल !
खून से नहला दिए , 
खिलखिलाते फूल  !

शिखा कौशिक 'नूतन' 

रविवार, 14 दिसंबर 2014

''..फिर मौज करो !''


अति मेधावी युवक राम ने अपने लैपटॉप पर उच्च शिक्षा आयोग की वेबसाइट खोली  और डिग्री कॉलेज प्रवक्ता परीक्षा के हिंदी विषय के साक्षात्कार के परिणाम के लिंक पर क्लिक कर दिया .पी.डी.ऍफ़. फ़ाइल खुलते ही राम का दिल धक-धक करने लगा .उसकी आँखों के सामने चयनित अभ्यर्थियों की सूची थी .उसने गौर से एक-एक नाम पढ़ना शुरू किया .कुल चौबीस सफल अभ्यर्थियों में उसका नाम नहीं था .हां !उसके मित्र वैभव का नाम अवश्य था .उसके कानों में वैभव के पिता के कहे गए वचन गूंजने लगे -'' एक बार पैसा दे दो फिर ज़िंदगी भर मौज करो !'' राम के मन में आया -'' ..पर दे कहाँ से दो ? वैभव के पिता तो डिग्री कॉलेज में हिंदी विभागाध्यक्ष हैं .उनकी हर माह की तनख्वाह एक लाख के लगभग बैठती है पर मेरे पिता जी ..बेचारे एक परचून की दुकान चलाते  हैं और इसी की सीमित आय से उन्होंने मुझे उच्च शिक्षा दिलवाई .हर कक्षा में मैं वैभव की तुलना में ज्यादा अंक लाया और आज वो चयनित हो गया ..मैं रह गया ..क्या ये धोखा नहीं है ? क्या साक्षात्कार बोर्ड केवल अभिनय करने के लिए साक्षात्कार लेता है जबकि पैसा पहुंचाकर वैभव जैसे अभ्यर्थी अपना चयन पहले से ही पक्का कर लेते हैं .ये बीस-पच्चीस लाख देकर पद पाने वाले क्या पद ग्रहण करते ही अपना रुपया वसूलने के हिसाब-किताब में नहीं लग जाते होंगे ! फिर एक प्रश्न मुझे कचोटता है यदि  मेरे पिता जी के पास भी रिश्वत में देने लायक रूपया होता तो क्या मैं भी किसी और का हक़ मारकर पद पर आसीन हो जाता ? क्या मेरे आदर्श ,मेरी नैतिकता इसीलिए ज़िंदा है क्योंकि मैं रिश्वत देने लायक रूपये-पैसे वाला हूँ ही नहीं ?''

ये सोचते-सोचते राम ने अपने लैपटॉप की विंडो शट -डाउन कर दी और दीवार पर लगी घड़ी में समय देखा .रात के नौ बजने आ गए थे .राम के माँ-पिता जी एक देवी-जागरण में गए हुए थे .अतः राम ड्राइंग रूम में सोफे पर बैठकर उनके लौटने का इंतज़ार करने लगा .उसने सामने मेज पर रखी ''निराला' रचित ''राम की शक्ति पूजा '' उठाई और उसको पढ़ने लगा .राम को लगा जैसे ये उसके ही वर्तमान जीवन की उथल-पुथल पर सृजित रचना है।  ईर्ष्या.,संदेह ,पराजय के भय से आक्रांत स्वयं को धिक्कार लगाते  हुए मानों ये निराला कृत पंक्तियाँ उस पर ही लिखी गयी हैं -
    ''स्थिर राघवेन्द्र को हिला रहा फिर-फिर संशय ,
    रह-रह उठता जग जीवन में रावण जय-भय ,
    कल लड़ने को हो रहा विकल वह बार-बार ,
  असमर्थ मानता मन उद्यत हो हार-हार .''

राम का ह्रदय साक्षात्कार के परिणाम को देखने के  पश्चात इतना अवसाद से भर गया था कि उसने निराला रचित इस महाकाव्यात्मक कविता की पंक्तियों को कई बार दोहराया .उसे भी वर्तमान में विभिन्न सरकारी आयोगों में व्याप्त भ्रष्टाचार रावण की भांति दुर्जेय  प्रतीत होने लगा .उसे लगा इसे भेद पाना असंभव कार्य है .उसका मन धिक्कारने लगा उस दिव्य-शक्ति को भी जो भ्रष्ट लोगों का साथ देती है और उसके जैसे योग्य लोगों को ऐसे मनहूस दिन देखने के लिए विवश कर देती है .सामने पुस्तक की पंक्तियाँ भी उसके मनोभावों को अभिव्यक्त करने वाली  थी -
  '' अन्याय जिधर है उधर शक्ति,
   कहते छल-छल हो गए नयन ,
   कुछ बूँद पुन: छलके दृग-जल
  रुक गया कंठ ...''

ये पढ़ते-पढ़ते राम की आँखें भी भर आई .उसने पलकें बंद की तो दो  अश्रु की बूँदें पुस्तक पर टपक गयी .उसने पुस्तक को वापस मेज पर रख दिया और लम्बी सांस भरकर दीवार पर टंगी अपने माता-पिता के विवाह की तस्वीर देखने लगा .राम सोफे पर से उठकर तस्वीर के पास पहुंचकर धीरे से बोला -'' आप दोनों चिंता न करें ! मैं इस निराशा और भ्रष्ट  तंत्र को भेदकर लक्ष्य-प्राप्ति करके दिखाऊंगा .मैं इनसे डरकर न रेल से कटूँगा न जल कर मरूँगा . न ही पिता जी आप पर दबाव बनाऊंगा कि कहीं से भी पैसों का इंतज़ाम कर रिश्वत दें ताकि मैं भी अपने से ज्यादा काबिल का हक़ छीनकर पद प्राप्ति में सफल हो जाऊं  .'' ये बोलते -बोलते राम के कानों में निराला की पंक्तियाँ गूंजने लगी -
 '' होगी जय , होगी जय हे पुरुषोत्तम नवीन ,
   कह महाशक्ति राम के वदन  में हुई लीन !''
 तभी डोर बैल बजी .राम समझ गया कि माँ व् पिता जी देवी जागरण से लौट आये हैं .एक नज़र दीवार -घडी पर डाली जो अब दस बजा रही थी .राम तेजी से डोर खोलने के लिए बढ़ लिया . अंदर प्रवेश करते ही राम का चेहरा देखकर माँ ने उससे प्रश्न कर डाला ''तू रोया था न बेटा   ?'' राम बनावटी  मुस्कान बनाता हुआ बोला -'' नहीं माँ !'' पर ये कहते -कहते ही वो बिलख कर रो पड़ा और रूंधें गले से ये कहता हुआ माँ के गले लग गया -'' मैं फेल हो गया माँ !'' राम के पिता जी उसके कंधें पर हाथ रखते हुए बोले -'' ..तो इस बार भी तू सफल नहीं हो पाया ...इसमें रोने की क्या बात है ? मिले थे देवी-जागरण में वैभव के पिता .बहुत प्रसन्न थे वैभव के चयनित होने पर .कह रहे थे पच्चीस लाख में सौदा पटा है .बेटा ! मेरे पास न तो इतने पैसे देने के लिए हैं और अगर होते भी तो मैं शिक्षा -विभाग को परचून की दूकान न बनने देता .बेटा ! विचलित मत होना .अपने सद आदर्शों को शक्तिमय  बनाओ  और अपने लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु सतत  प्रयासरत रहो .''  पिता जी के प्रेरणामयी वचनों  ने राम के व्यथित ह्रदय को बहुत राहत  पहुंचाई  .माँ ने राम के माथे  को चूमते हुए कहा  -'' तू क्यों निराश होता है लल्ला  ? ले  ये देवी-मैय्या का प्रसाद खा .पैसे देकर प्रोफ़ेसर बनने से अच्छा तो तू अपने पिता जी की दुकान पर उनके साथ बैठ जा .कम से कम मन को ये सुकून तो रहेगा कि तूने किसी और अपने से ज्यादा काबिल का बुरा कर अपना भला नहीं किया है ....सब भुगतना पड़ता है ..किसी और का हक़ मारा है इन पैसा देने वालों ने ....भगवान  सब देखता है .'' माँ ये कहकर नम आँखों को पोंछती हुई अपने कमरे में चली गयी और पिता जी भी राम को '' सो जाओ बेटा '' कहकर भारी मन से वहां से चले गए .
  पूरी रात राम करवटें बदलता रहा .''कैसे सफल हो पाउँगा ?'' ''क्या माँ-पिता जी मेहनतें बेकार चली जाएँगी ?'' ''क्या इस सृष्टि में कोई ऐसी शक्ति नहीं जो मेरे जैसे ईमानदार लोगों की मदद कर सके ?'' ये सब सोचते -सोचते उसका दिमाग थकने लगा और जब माँ ने झकझोर कर उसे जगाया तब सुबह के नौ बजने आये थे .राम अंगड़ाई लेता हुआ बोला -'' अरे ये तो बहुत देर हो गयी .पिता जी तो दूकान पर चले गए होंगे माँ ?'' माँ ने उसे चाय की प्याली पकड़ाते हुए कहा - '' हां ! और ये कहकर गए हैं कि अपनी असफलता पर उदास होने की बिलकुल आवश्यकता नहीं है .यदि  तुम्हारे मन में आत्महत्या जैसा कोई विचार पनप रहा है तो उसे तुरंत कुचल डालो क्योंकि हमारे लिए तुम्ही सब कुछ  हो .तुम कोई उच्चे पदाधिकारी बनते हो या फिर दूकान पर बैठते हो ...हमारे लिए दोनों परिस्थितियों  में तुम हमारे बेटे ही हो .चार लोगों में बैठकर ये कहने से कि हमारा बीटा ये बन गया ...वो बन गया ...से ज्यादा महत्व हमारे लिए तुम्हारा है .समझे ?'' माँ के ये पूछने पर राम विस्मित होता हुआ बोला -'' अरे आप लोग कैसी बातें कर रहे हैं ? मैं क्यों आत्महत्या की सोचने लगा ?'' राम के इस प्रश्न पर माँ ने पलंग के पास रखे स्टूल पर से अखबार को उठकर उसके आगे करते हुए कहा -'' ऐसे ही चिंतित नहीं हैं मैं और तुम्हारे पिता जी ..ये देखो इस लड़के ने क्या किया ?'' राम ने चाय ख़त्म करते हुए प्याली स्टूल पर राखी और माँ के हाथ से अखबार लेते हुए उसके पहले ही पृष्ठ पर प्रकाशित खबर को देखा . खबर की हेडिंग थी -'' साक्षात्कार में चयनित न होने पर युवक ने लगाई फांसी :दो माह पूर्व ही हुआ था विवाह '' . खबर पढ़ते ही राम भौचक्का रह गया .खबर के साथ उसका फांसी पर लटके हुए का फोटो भी था तथा उसकी रोती-बिलखती  नवविवाहिता का फोटो भी साथ में छपा था .खबर में उसके सुसाइड नोट का जिक्र भी था जिसमें उसने साक्षात्कार परिणाम में धांधली का आरोप लगाया था . विश्वविदयालय  टॉपर उस लड़के की फांसी पर लटके हुए की तस्वीर राम ने गौर से देखी तभी उसके कानों में गूंजे वैभव के पिता के वे वचन -'' एक बार पैसा दे दो फिर ज़िंदगी भर मौज करो !''

राम ने गुस्से में अखबार अख़बार को पलंग पर पटक  दिया और रोष में बोला -'' माँ देखा ....योग्य अभ्यर्थी फांसी पर लटक रहे हैं और पैसा देकर लगने वाले मौज कर रहे हैं ...भगवान सब देखता है तो माँ कहाँ है वो भगवान ? दो महीने में ही सुहागन से विधवा हुई इस युवती को क्या कहकर ढांढस बँधायेगा ये सिस्टम ...बहुत बुरा हुआ माँ ..बहुत बुरा हुआ ...पर आप चिंता न करो मैं ऐसा कुछ नहीं करूंगा !'' ये कहते हुए राम ने माँ की हथेली कसकर पकड़ ली .
      करीब छह माह पश्चात वैभव के पिता राम के पिता जी की दुकान पर आये और वैभव के विवाह का निमंत्रण कार्ड   दे गए .वैभव ने भी राम को फोन कर विवाह-समारोह में आने के लिए निमंत्रित किया .वैभव के विवाह-समारोह  में राम  शामिल हुआ .राम को वहां देखते  ही वैभव उससे मिलने आया और धीरे से उसके कान में बोला -'' हुआ नहीं ना अब तक कहीं नौकरी का जुगाड़ ?  अरे यार कब तक ऐसे ही आदर्शवाद के चक्कर में पड़ा रहेगा !तेरा सलेक्शन तो मैं आज ही करवा दूँ बस तू रुपयों का इंतज़ाम कर ले .'' राम उसकी बात पर मुस्कुराता हुआ बोला -''छोड़ ना ..आज ये सब बातें रहने दे ..मेरी शभकामनायें हैं तुझे व् तेरी जीवनसंगिनी को .'' वैभव राम को छेड़ता हुआ बोला '' हमें कब देगा ऐसा मौका ?'' राम थोड़ा शर्माता हुआ बोला -' तू भी ना ..'' वैभव हँसता हुआ बोला -'' पता है ! पिता जी ने बहुत ही मालदार लोग पकडे हैं... मेरी नौकरी लगवाने में जितना पैसा पिता जी को देना पड़ा था उतना नकद पैसा दहेज़ में आया है .नौकरी लगने के कोई एक फायदा थोड़े ही है !'' राम को वैभव की ये बातें बहुत ही हल्के स्तर की लग रही थी पर आज वो पलटकर कुछ नहीं कहना चाहता था क्योंकि आज वैभव के जीवन का बहुत ही खास दिन था .
               वैभव के विवाह -समारोह से लौटकर आये राम के चेहरे पर अपनी असफलताओं को लेकर निराशा के भाव थे .कानों में गूँज रहा था ,''अन्याय जिधर है उधर शक्ति .'' राम के मन में घमासान था .''आखिर ऐसे कैसे भ्रष्ट लोग हमें निर्देशित करने का साहस करते हैं जो हमारा हक़ छीनकर पदासीन हो जाते हैं .मन करता है आयोग के भवन को आग लगा दूँ जहाँ बैठकर भ्रष्ट लोग हमारे भविष्य से खिलवाड़ करते हैं ........वे न केवल हमारा हक़ छीनते हैं वे छीनते हैं माता-पिता की त्याग-तपस्या का सुफल ,सुहागिनों की मांग से सिन्दूर ,मारते हैं कितनी ही माताओं की कोख पर लात और छीनते हैं बूढ़े पिताओं का सहारा .....हाँ आग लगा देनी चाहिए ऐसे भवनों को और सरेआम चौराहे पर फांसी पर लटकाये जाएँ ऐसे भ्रष्ट पदाधिकारी .'' ऐसे अवसाद में डूबे राम को पिाताजी ने एक लड़की का फोटो दिखाते हुए कहा -'' क्या तुझे लड़की पसंद है ?'' फोटो देखकर राम उसे पहचानता हुआ बोला- ''पर ......ये तो वही लड़की है जिसके पति ने साक्षात्कार में चयनित न होने पर आत्महत्या कर ली थी .'' 'हाँ तो '' पिता जी ने कड़क होते हुए कहा .राम संभलता हुआ बोला '' तो .....तो कुछ नहीं ...आपको पसंद है ....माँ को पसंद है .....तो ठीक है .'' राम ये कहकर वहां से चलने लगा तो पिताजी नरम होते हुए बोले -''जिस दिन वो खबर पढ़ी थी और इसका फोटो देखा था उसी दिन निश्चय कर लिया था कि इस बच्ची को इस सदमे से टूटने न दूंगा ,गया था मैं इसके घर का पता करके इसके यहाँ , बता दिया था उन्हें कि मेरा लड़का यू.जी.सी.नेट है और पीएच .डी. भी कर चुका है पर डिग्री कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर लग पायेगा इसमें संदेह है क्योंकि मैं एक भी पैसा रिश्वत में नहीं दूंगा , मेरी परचून की दुकान है ....मेरे साथ वही संभालता है ...आप लोगों को स्वीकार हो अगर ये रिश्ता तो मुझे सूचित कर दीजियेगा .आज लड़की के ससुर व् पिता आये थे और ये तस्वीर दे गए थे कि तुम्हें दिखा लूँ , लड़की का नाम रीना है ,वह एम.एस.सी.पास है और गृहकार्यों में दक्ष है .'' राम को एकाएक अपने पिताजी पर गर्व हो आया जिनका ह्रदय इतना विशाल है जिसने अनजान लोगों के दुःख को न केवल महसूस किया बल्कि उसे दूर करने के लिए अपना कदम भी बढ़ा दिया .राम ने झुककर पिताजी के चरण छू लिए .
      राम व् रीना का विवाह बहुत साधारण खर्च में संपन्न हुआ .न कोई दिखावा और न कोई लेन-देन .वैभव मय पत्नी , पिताजी सम्मिलित हुआ था राम के विवाह में .वैभव के पिताजी ने एक कोने में ले जाकर राम से कहा था -''तुम्हारे पिता ने तुम्हारा जीवन चौपट कर डाला ,कम से कम  दहेज़ में इतना तो ले लेते कि तुम्हारी नौकरी का इंतज़ाम हो जाता ....एक तो विधवा ......खैर छोडो ....तुम भी शायद अपने पिता को ही सही मानते हो .''राम ने सहमति में सिर हिलाया था और बहाना बनाकर उनके पास से चला आया था .
                  सप्ताह ,महीने ,दो महीने ...ज़िंदगी राम की भी चल ही रही थी और वैभव की भी पर एक दिन जैसे सब रुक गया .राम को विश्वास न हुआ कि ऐसा कैसे हो सकता है ? पर मोबाइल पर राम को ये सूचना वैभव के पिताजी ने दी थी इसलिए संशय की कोई बात शेष भी न थी .राम थोड़ी देर के लिए किंकर्तव्यविमूढ़ सा खड़ा रहा . रीना ने उसे आँगन में ऐसे खड़ा देखा तो उसके पास पहुंचकर उसके कंधे पर हाथ रखते हुए बोली -'' क्या हुआ ? किसका फोन था ? '' राम हड़बड़ाता हुआ बोला - ''हैं .....क्या .....वो ...वैभव के पिताजी का फोन था ......वैभव और उसकी वाइफ की  सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी है !!!''.....रीना ..रीना ऐसा कैसे हो सकता है ..दो ज़िंदगियाँ ऐसे पल भर में ..!'' ये कहते-कहते राम की आँखें भर आई .रीना उसे सांत्वना देते हुए बोली -'' आप दिल पर न लें ..वहां उनके घर जाइए ..उनका तो बुरा हाल होगा ..मैं माँ-बाबू जी को बताती हूँ !'' ये कहकर रीना अंदर चली गयी और राम के कदम वैभव के घर की ओर बढ़ चले .
   शमशान -घाट में जब  वैभव के पिता जी ने अपने एकलौते पुत्र व् पुत्रवधू की चिताओं को मुखाग्नि दी तब राम की आँखों के सामने न जाने क्यों फांसी पर लटके हुए रीना के पूर्व पति की अखबार में छपी तस्वीर घूम गयी और फिर दो महीने में विधवा हुई रीना की रोती-बिलखती की तस्वीर और फिर वैभव के पिता जी के वे वचन '' एक बार पैसा दे दो फिर ज़िंदगी भर मौज करो '' पर आज राम का ह्रदय भी इस वचन पर पलटवार करता हुआ बोला -'' और जब ज़िंदगी ही न रहे ..मौज करो चाहे तुम्हारे कारण कोई फांसी पर लटक जाये ,कोई रेल से कटकर मर जाये , कोई जल कर मर जाये या मेरी तरह नाक़ाबिलों को सफल होते देखकर भी दृढ़ ह्रदय होकर प्रयास  करता रहे ..अब क्या करोगे ..यमराज से सौदा पटा लो ..प्राण वापस ले आओ इन दोनों के ..नहीं ल सकते ना ...!!!'' ये सोचते सोचते राम की आँखें भर आई और उसका बदन वैभव और उसकी पत्नी की जलती चिता की आग से तपने लगा .उसके कानों में गूंजने लगी ''प्रसाद''की  ''कामायनी'' के ''चिंता '' सर्ग की ये पंक्तियाँ -
  '' अरे अमरता के चमकीले पुतलो ! तेरे वे जयनाद -
    काँप रहे हैं आज प्रतिध्वनि बन कर मानों दीन विषाद
    प्रकृति रही दुर्जेय , पराजित हम सब थे भूले मद में
    भोले थे , हां तिरते केवल सब विलासिता के नद में
     वे सब डूबे , डूबा उनका विभव , बन गया पारावार
   उमड़ रहा था देव सुखों पर दुःख जलधि का नाद -अपार !!''

  शिखा कौशिक 'नूतन '

बुधवार, 3 दिसंबर 2014

''दलित देवो भव:''-कहानी



घर का सैप्टिक टैंक लबालब भर गया था .सारू का दिमाग बहुत परेशान था .कोई सफाईकर्मी नहीं मिल पा रहा था .सैप्टिक टैंक घर के भीतर ऐसी जगह पर था जहाँ से मशीन द्वारा उसकी सफाई संभव न  थी .सारू को याद आया कि उसके दोस्त अजय की जानकारी में ऐसे सफाईकर्मी हैं जो सैप्टिक टैंक की सफाई का काम करते हैं .उसने अजय को दोपहर में फोन मिलाया तो अजय ने उसे आश्वासन दिया कि वो अपनी जानकारी के सफाईकर्मियों को उसके घर सैप्टिक टैंक की सफाई हेतु भेज देगा .सारू की चिंता कुछ कम हुई .
                      शाम होते होते तीन सफाईकर्मी सारू के घर पर आ पहुंचें ..सैप्टिक टैंक का ढक्कन हटाकर  एक  सफाईकर्मी ने देखा तो सैप्टिक टैंक मल से भरा पड़ा था .झानू  नाम के उस सफाईकर्मी  ने सारू को सैप्टिक टैंक दिखाते हुए कहा -'' बाऊ जी  तीन हज़ार रूपये लगेंगे   .इसमें तो मलबा ही मलबा भरा पड़ा है .उठाकर  बाहर फेंकना होगा सड़क पर .पानी तो कतई नहीं है जो नाली में बहा देते ..'' झानू की बात पर सहमति जताते हुए सारू बोला -''ठीक है भाई ...पर इसे कल साफ़ कर दो .....दुर्गन्ध के कारण घर में रहना मुश्किल हो गया है .'' झानू सारू को विश्वास दिलाता हुआ बोला -'' सवेरे ही आ लेंगे हम अपनी बाल्टियां लेकर ....कुछ एडवांस मिल जाता तो ...'' झानू के ये  कहते ही सारू ने पेंट की अगली दायीं जेब में रखा अपना पर्स निकला और पांच सौ का नोट झानू के हाथ में थमा दिया .तीनों सफाईकर्मी हाथ उठाकर माथे के पास लेकर सारू को सलाम करते हुए वहां से चले गए .
सारू ने उनके जाने के बाद अजय को फोन मिला और सारी बात बता दी .अजय ने सारी बात सुनकर कहा -''पता है तुझे पांच सौ रूपये क्यों ले गए झानू हर एडवांस में ....रात को दारू पीकर पड़ जायेंगें साले .'' सारू अजय की बात का जवाब देते हुए बोला -'' दारू पीकर न पड़ें  तो और क्या करें ?ऐसा गन्दा  काम ये ही कर रहे  हैं ...कोई दुनिया की सारी दौलत भी तुम्हें दे दे तो भी क्या तुम ये काम कर पाओगे ? '' सारू के इस सवाल पर अजय सहमति देता हुआ बोला -'' हां सारू ये बात तो हैं ..तू सच कह रहा हैं ..जानता हैं झानू देवी के मंदिर में ढोल बजाता हैं और एक पैसा तक नहीं लेता .चल कल को काम हो जाये तब फोन कर के बता देना .'' ये कहकर अजय ने फोन काट दिया .
 अगले दिन सुबह नौ बजे करीब झानू और उसके दोनों साथ अपनी बाल्टियां लेकर सैप्टिक टैंक की सफाई हेतु सारू के घर आ पहुंचें .सैप्टिक टैंक के चारों ढक्कन हटते ही जहरीली गैसों की ऐसी दुर्गन्ध फैली कि सारू का वहां खड़ा रहना मुश्किल हो गया .झानू  सारू को वहां से जाने के लिए कहता हुआ बोला -'' बाऊ जी आप जाओ..जब काम हो जायेगा मैं आपको बुला लूँगा .'' झानू के ये कहने पर सारू एक कमरे में चला गया .झानू ने एक बांस से सैप्टिक टैंक की गहराई नापी और अपने  साथियों से बोला -एक को इसमें  उतरना होगा .झानू के ये कहते ही उसका एक साथी पेंट को घुटनों तक मोड़ कर उसमें उतर गया .लगभग दो घंटे के कठोर परिश्रम से झानू और उसके साथियों ने सैप्टिक टैंक की सफाई कर दी .सफाई के बाद झानू ने सारू को आवाज़  लगाई -'' बाऊ जी अब आ जाइये .'' सारू कमरे से निकल कर वहां पहुंचा .सैप्टिक टैंक साफ़ हो चूका था .सैप्टिक टैंक में उतरे हुए सफाईकर्मी ने सैप्टिक टैंक में आये हुए पाइपों में हाथ घुसाकर दिखाया कि पाइप पूरी तरह से खुले हुए हैं .सारू के मन में आया -'' सफाईकर्मियों को विशेष प्रकार के दस्ताने व्  मुंह-नाक पर लगाने के लिए सेफ्टी कैप दिए  जाने चाहियें ताकि वे  इस खतरनाक काम को करते हुए अपने स्वास्थ्य के साथ कोई खिलवाड़  न करें पर इस सब पर ध्यान ही किसका है ?'' सारू के ये सोचते हुए ही झानू बोला -''बाऊ जी अब हमारी बाल्टियां व् हमारे हाथ-पैर साफ़ पानी से धुलवा दीजिये .'' सारू ने पास ही भरी एक टंकी से मग्घे द्वारा पहले बाल्टियां धुलवाई फिर  एक एक कर तीनों के हाथ पैर धुलवाए .

उनके हाथ पैर धुलवाते हुए उनके चेहरे पर दीन-हीन भाव देखकर  सारू विचारमग्न हो उठा -'' ये झानू और उसके साथी सामान्य जन नहीं हैं ...ये धरती पर भगवान हैं ..जैसे भगवान शिव ने समुन्द्र-मंथन के समय निकले कालकूट महाविष को पीकर पूरे ब्रह्माण्ड को उसके महाघातक जहरीले कुप्रभाव से बचाया था ऐसे ही ये शिवदूत हमें मल-मूत्र के घातक जहरीली गैसों के कुप्रभावों से बचाते हैं .ये क्यों दीन भाव चेहरे पर लिए रहते हैं ?ये तो हमारे पूज्य हैं !इनके आगे हम सिर उठाकर बात करने लायक भी कहाँ हैं !इनके सामने तो हमें हाथ जोड़कर खड़े रहना चाहिए .ये तो जन्म देने वाली माँ से भी बढ़कर हैं .वो भी अपने जने बच्चे के ही पोतड़े धोती है पर ये ..ये तो पूरे समाज की गंदगी साफ़ करते हैं ..सैप्टिक टैंक के भीतर गंदगी में घुसे सफाईकर्मी को देखकर जब मैंने आँखें बंद की तब मुझे शमशान  में चिता की राख के बीच  तांडव करते काल-भैरव नज़र आये ......हां ये ही भगवान को सबसे ज्यादा प्रिय होंगें और हम इनके ही मंदिरों में प्रवेश पर रोक लगाते हैं ! इनके हाथ से हमारा हाथ छू  जाये तो घृणा करते हैं ...मुझे अच्छी तरह याद है दादी किसी भी सफाईकर्मी को कुछ देते समय इतनी एहतियात बरतती थी कि उनके हाथ की   ऊँगली सफाईकर्मी की ऊँगली से छु भर न जाये और अगर  गलती से मैं किसी ऐसी चीज़ को छेड़ देता जिसे किसी सफाईकर्मी ने छेड़ा हो तो मुझे ''चूड़े का हो गया '' कहकर चिढ़ाया  जाता .कितने नीच हैं हम !सैप्टिक टैंक के भीतर घुसे झानू के साथी को देखकर कितनी लज्जा आ रही थी खुद पर ..क्या दे देते हैं हम ..हज़ार..दो हज़ार..तीन हज़ार ..पर ये देखो अपने शरीर पर झेलते हैं जहरीली गैसों को  ..गंदगी को और हद तो ये है कि तब भी इन्हें नीच समझा जाता है और ये भी खुद को दीन-हीन समझते हैं .मानव मानव में इतना भेद पैदा करने वाले विद्वान पूर्वजों ने क्या कभी सोचा कि यदि ये गंदगी की सफाई न करते तो चारों ओर फैली दुर्गन्ध के बीच वे वेद-पाठ कैसे कर पाते ?इनके शरीर से आने वाली दुर्गन्ध पर नाक से कपडे ढँक लेने वाले समाज ने कभी सोचा कि इस दुर्गन्ध के जिम्मेदार तुम ही श्रेष्ठ जाति के जन हो ! जब तुम इनके प्रति घृणा का प्रदर्शन करते हो तब एक बार भी सोचते हो कि जिन पाख़ानों में तुम मल-मूत्र का विसर्जन कर  ,थूककर बाहर निकल आते हो उन्ही पाख़ानों को तुम्हारे जैसे मानव अपना कार्यक्षेत्र समझकर साफ़ करते हैं .घृणा तो उन्हें करनी चाहिए तुमसे ! गंदगी की सफाई कर उसे स्वच्छ बनाने वाले घृणा नहीं पूजा के अधिकारी हैं !'' सारू ने ऐसे ही निर्मल भावों से झानू और उसके साथियों के हाथ-पैर धुलवाले .और उसके पश्चात उनके शेष पच्चीस सौ रूपये देकर हाथ जोड़कर उन्हें विदा किया .घर से विदा हुए उन तीनों को जाते देखकर सारू को लगा जैसे त्रिदेव आज उसके घर आये थे और न केवल सैप्टिक टैंक की सफाई हुई थी आज बल्कि उसका मन भी पहले से ज्यादा निर्मल हो गया था .

शिखा कौशिक 'नूतन'

शुक्रवार, 21 नवंबर 2014

मानव की जय -जयकार !

rising sun
होगी  सुबह ,
दिनकर उदित होगा पुनः ,
निज रथ  पे हो सवार !
...................
हर लेगा तम ,
होगा सुगम ,
जीवन का सब व्यापार !
..............................
छोडो न  आशा  ,
हो व्यथित ,
किंचित करो विचार !
..........................
मानव  हो तुम ,
निज बुद्धि -बल की,
तेज करो धार  !
........................
गिर कर उठो ,
उठकर  बढ़ो  ,
हो तीव्र नित रफ़्तार !
.......................................................
होकर हताश ,
यूँ निराश ,
मान लो मत हार !
................................
तेरी धरा ,
तेरा गगन ,
सृष्टि का कर श्रृंगार !
................
दानवी बाधा   कुचल ,
ब्रह्माण्ड में हो अब सकल ,
मानव की जय -जयकार  !


शिखा कौशिक 'नूतन '






बुधवार, 5 नवंबर 2014

''नारी को मत यूँ करो नग्न !''



मत बहको इतना  कवि-कलम,
मर्यादित हो करना वर्णन ,
श्रृंगार -भाव की आड़ में तुम ,
नारी को मत यूँ करो नग्न !
.............................................
कामदेव के दास नहीं ,
तुम मात शारदा-तनय हो ,
न हो प्रधानता रज-तम की ,
अब सत्व-गुणों की प्रलय हो !
अनुशासित होकर करो सृजन !
नारी को मत यूँ करो नग्न !
.................................
नारी-तन के भीतर जो उर ,
उसमें भावों का अर्णव है  ,
कुच-केश-कटि-नयनों से बढ़ ,
उन भावों में आकर्षण है ,
नारी का मन है सुन्दरतम !
नारी को मत यूँ करो नग्न !
................................
श्रंगारिक रचना एक मात्र ,
कवियों का कर्म न रह जाये ,
नख-शिख वर्णन में डूब कहीं ,
न नारी -गरिमा मिट जाये ,
मत करना ऐसा कभी यत्न !
नारी को मत यूँ करो नग्न !

शिखा कौशिक 'नूतन'

शनिवार, 1 नवंबर 2014

कविता मात्र श्रृंगार नहीं !


कोमल पुष्पों का हार नहीं ,
रसिक-नृप-दरबार नहीं ,
ये नूपुरों की झंकार नहीं ,
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
.......................................
कविता नहीं सीमित नख -शिख तक ,
नारी की चंचल -चितवन तक ,
षड-ऋतुओं के वर्णन तक ,
कामोद्दीपक भावों तक ,
प्रेमी-युगलों को हर्षाती ;
केवल मदमस्त फुहार नहीं !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
...........................................
कविता-शिव का पर्याय है ,
शिव में ब्रह्माण्ड समाये है ,
वही सत्य है वही सुन्दर है ,
आनंद का यही उपाय  है ,
मानवता  के आदर्शों का
स्थायी  दृढ़  आधार  यही  !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
............................................
वीरों में भर देती साहस  ,
मातृ -भूमि हित मिट जाओ ,
मत करो पलायन डर कर तुम ,
भले रणभूमि  में कट  जाओ ,
वीरों के कर में है सजती ,
शत्रु-मर्दन तलवार यही !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !
..............................................
करुणा से ह्रदय द्रवित करती ,
प्रफुल्लित उर को कर देती ,
कविता में हास-रुदन दोनों ,
जीवन में रंग यही भरती ,
कविता नहीं होती मधुशाला ,
पावन गंगा -सम धार यही !
कविता मात्र श्रृंगार नहीं !

शिखा  कौशिक  'नूतन '

बुधवार, 29 अक्तूबर 2014

इंसा को इंसा से जुदा किया..

इंसा को इंसा से जुदा किया
बेजां बुत को खुदा किया
ढूंढता रहा जो तेरे दिल में ठिकाना
उसे पत्थर की हवेलियों में बिठा दिया

पैरो तले दी जिसने ज़मी
सर पे दी छत एक आसमां की
पहले टुकड़े टुकड़े की वो ज़मी उसकी
फिर टुकड़े आसमां किया
उठा कर कहीं मंदिर कही मस्जिद की दीवारे
टुकड़े टुकड़े फिर हमने वो ही खुदा किया

हैरां है परेशां है वो इस कदर ये सोच कर
कि उसने तो बनाई थी एक जात इंसा की मगर
कैसे बने ये सिख और कैसे हुए इसाई
किसने इन्हें हिन्दू और मुसलमां किया

कभी धर्म कभी मजहब कभी जात पर लड़ा किये
अक्सर यूँ ही बेवजह बात बेबात पर लड़ा किये
लेकर नाम उसका बहाया खूं उसके ही बंदो का
और खुद खुदा होने का गुमाँ किया

कितने नाजों से रची थी कायनात उसने
आबोहवा में घोले थे उल्फत के जज्बात उसने
फिर कैसे बदला ये मंज़र
घोला किसने इन फिज़ाओ में ये नफरत का ज़हर
और उसकी इस हंसी कायनात को खूं से नहला दिया!

शिल्पा भारतीय "अभिव्यक्ति"

शनिवार, 4 अक्तूबर 2014

एक नया अध्याय खोल

Image result for free images of joyful life
मत बहाने बना
अपनी अकर्मण्यता के लिए ;
जो दोष हैं तुझमें
बेझिझक उन्हें स्वीकार कर;
जिन्दगी से प्यार कर.
...................................

गिर गया तो क्या हुआ
गिरकर सम्भलते हैं सभी;
एक नया अध्याय खोल
हारी बाजी जीतकर;
जिन्दगी से प्यार कर.
.............................

मैं नहीं कुछ भी;
नहीं कर सकता कुछ भी अब कभी;
इस तरह न बैठकर
मौत का इंतजार कर;
जिन्दगी से प्यार कर.

SHIKHA KAUSHIK 'NUTAN'

गुरुवार, 25 सितंबर 2014

Girls are pearls, save them.

“Girls are the spirit of our nation,save them and stop their exploitation.” 
 
 
 
“Daughters are flowers that are forever in bloom.” 
Photo: Save The Girl Child, Save The Nation 

“[Kids] don't remember what you try to teach them. They remember what you are.”
― Jim Henson

शनिवार, 20 सितंबर 2014

अपमानों के अंधड़ झेले ; छल तूफानों से टकराए ,


 
अपमानों के अंधड़ झेले ;
छल तूफानों से टकराए ,
कंटक पथ पर चले नग्न पग
तब हासिल हम कुछ कर पाए !


आरोपों  की कड़ी धूप में
खड़े रहे हम नंगे सिर ,
लगी झुलसने आस त्वचा थी
किंचित न पर हम घबराये !


व्यंग्य-छुरी दिल को चुभती थी ;
चुप रहकर सह जाते थे ,
रो लेते थे सबसे छिपकर ;
सच्ची बात तुम्हे बतलाएं !


कई चेहरों से हटे मखौटे ;
मुश्किल वक्त में साथ जो छोड़ा ,
नए मिले कई हमें हितैषी
जो जीवन में खुशियाँ लाये !


 धीरज बिन नहीं कुछ भी संभव ;
यही सबक हमने है सीखा ;
जिन वृक्षों ने पतझड़ झेला
नव कोंपल उन पर ही आये !
                                        शिखा कौशिक 'नूतन'

[ मेरी शोध यात्रा के पड़ावों को इस भावाभिव्यक्ति के माध्यम से उकेरने का एक सच्चा प्रयास मात्र है ये ]



गुरुवार, 4 सितंबर 2014

शत शत नमन सद्गुरु के चरणों में-शत शत नमन !

शत शत नमन   सद्गुरु  के  चरणों  में !

happy teachers day Teachers Day Latest SMS,Poems,Greetings & Wallpapers in 2011.teachers day card Teachers Day Latest SMS,Poems,Greetings & Wallpapers in 2011.  
सद्गुरु  के  चरणों  में हम शीश  धरते हैं 
श्रद्धा  अवनत  होकर   प्रणाम  करते   हैं . 
...................................................................................
आपने हरा अज्ञान  का है तम 
पूजनीय हैं आप सर्वप्रथम 
आपकी महिमा का गुणगान करते हैं 
श्रद्धा अवनत होकर प्रणाम करते हैं .
............................................................................
सत्य  का पथ आपने दिखाया 
माया मोह के जाल से  बचाया     
करबद्ध  हो सम्मान करते हैं 
श्रद्धा अवनत होकर प्रणाम करते हैं .
................................................................................
पग पग पर परे  किया निर्देशन    
अहर्निश हमारा किया मार्गदर्शन       
आप हैं महान विद्यादान करते हैं
श्रद्धा अवनत होकर प्रणाम करते हैं .
...................................................................
आपको करते हैं शत शत नमन  
आपने सँवारा  हमारा जीवन     
आप जैसे  गुरु पर अभिमान करते हैं  
श्रद्धा अवनत होकर प्रणाम करते हैं .   
.................................................................................                                   
 शिखा कौशिक  images Teachers Day Latest SMS,Poems,Greetings & Wallpapers in 2011.images 1 Teachers Day Latest SMS,Poems,Greetings & Wallpapers in 2011.

मंगलवार, 1 जुलाई 2014

जनता बिठाती गद्दी पर जनता ही उतारती !

मेरा दृढ विश्वास है कि केवल आम आदमी ही वास्तव में कोई परिवर्तन ला सकता है क्योंकि -

.....................................................................................................................................................
शोषणों की आग जब रक्त को उबालती ,
शंख लेकर हाथ में वो फूंक देता क्रांति ,
उसको साधारण समझना है भयानक भ्रान्ति ,
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
.....................................................................................................................................................
हम सामान्य -जन समक्ष श्री राम का आदर्श है ,
एक वनवासी कुचलता लंकेश का महादर्प है ,
''सत्य की है जय अटल '' इसका यही निष्कर्ष है ,
क्रांति -पथ पर वीर बढ़ता सोच ये सहर्ष है ,
थाम देता है गति अधर्म के तूफ़ान की !
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
.....................................................................................................................................................
कंस-वध जिसने किया भोला सा ग्वाला श्याम  है ,
आतंक-अन्याय मिटाकर बन गया भगवान है ,
कोटि-कोटि राम-श्याम हममें विद्यमान हैं ,
उत्सर्ग करने को सदा प्रस्तुत हमारे प्राण हैं ,
जन-जन की शक्ति एक होकर विश्व को संवारती !
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
.....................................................................................................................................................
साबरमती के संत को भूल सकता कौन है ?
मानव बने महात्मा विस्मित त्रिलोक मौन है ,
बांध दिया जनता को एकता की डोर से ,
मिटा दिया था भेद कौन मुख्य कौन गौण है ,
है अमर ''बापू'' हमारा धड़कनें पुकारती !
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
.................................................................................................................................................
हमको आशाएं बंधाकर , सत्ता का जो करते वरण ,
हम मौन होकर देखते जन-सेवकों का आचरण ,
हैं अगर सन्मार्ग पर , जन-जन करे अनुसरण ,
पथभ्रष्ट उनको देख हम करते अनशन आमरण ,
जनता बिठाती गद्दी पर जनता ही  उतारती !
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
.....................................................................................................................................................
आरोप-प्रत्यारोप तो नेताओं के ही काम हैं ,
आम-जन का लक्ष्य तो समस्या-समाधान है ,
छल-कपट से कर भी ले कोई छली  सत्ता-हरण ,
धरना-प्रदर्शन का हम रखते राम-बाण हैं ,
ठान लें तो हम पलट दें हर दिशा ब्रह्माण्ड  की !
वो भरे हुंकार तो वसुधा भी  थर-थर कांपती !
......................................................................................................................................................

शिखा कौशिक 'नूतन 

रविवार, 29 जून 2014

खुशबू -ऐ वतन

कोशिश वेलफेयर सोसाइटी की तरफ से आप सभी ब्लॉग मेम्बेर्स को "खुशबू ऐ वतन"....में 15 अगस्त को शाम 7 बजे  कानपुर में आपका स्वागत है.
आपके आने का हम सभी को इंतज़ार रहेगा ....
शुक्रिया,
कोशिश वेलफेयर सोसाइटी  टीम की तरफ से
"शिखा वर्मा परी"

गुरुवार, 26 जून 2014

हे प्रभु ! कैसे ये खेल ?

Weather pictures of the month
जन्म के ही साथ मृत्यु  जोड़  देता है ;
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
************************************
माता -पिता की आँखों क़ा जो है उजाला ;
अंधे की लाठी और घर क़ा जो सहारा ;
ऐसे ''श्रवण '' को भी निर्मम छीन लेता है.
हे प्रभु !ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
हाथ में मेहदी रचाकर ,ख्वाब खुशियों के सजाकर ,
जो चली फूलों पे हँसकर ,मांग में सिन्दूर भरकर ,
ऐसी सुहागन क़ा सुहाग छीन लेता है .
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
जन्म देते ही सदा को सो गयी ,
चूम भी न पाई अपने लाल को ,
नौ महीने गर्भ में रखा जिसे ,
देख भी न पाई एक क्षण उसे ,
दुधमुहे बालक की जननी छीन लेता है .
हे प्रभु ! ये खेल कैसे खेल लेता है ?
*******************************************
बांहों क़ा झूला झुलाता ,घोडा बनकर जो घुमाता ,
दुनिया क्या है ? ये बताता ,गोद में हँसकर उठाता ,
ऐसे पिता क़ा साया सिर से छीन लेता है .
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
******************************************
याद में आंसू बहाता ,राह में पलके बिछाता ,
हाथ में ले हाथ चलता ,तारे तोड़ कर वो लाता   ,
ऐसे प्रिय  को क्यूँ प्रिया से छीन लेता है .
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
********************************************
छोड़कर सुख के महल जो दुःख के बन में साथ थी ,
जिसके ह्रदय में हर समय श्री  राम नाम प्यास थी ,
ऐसी सिया को राम से क्यूँ  छीन लेता है ?
हे प्रभु ये खेल कैसे खेल लेता है ?
**********************************************

शिखा कौशिक 'नूतन'