समर्थक

रविवार, 21 दिसंबर 2014

''सपने अभी और टूटेंगे ! ''




थोड़े आंसू बचा के रखना  ,
दर्द  दबा लेना इस दिल में ,
नहीं आखिरी गम ये अपना ,
सपने अभी और टूटेंगे !
......................................
किसे मनाएं मिन्नत कर के ,
कब तक मांगें रोज़ दुआएं  ,
मौत के आगे बेबस होकर ,
अपने अभी कई छूटेंगें !
.................................
नए ज़ख्म मिलते जाते हैं ,
पिछले भरते कहाँ यहाँ !
आहें रख सँभाल के अपनी ,
टीसों पर कब तक चीखेँगेँ !
..................................
ज़िंदा रहना है तो सुन लो ,
दिल को अपने सख़्त बना लो ,
हर एक हादसे पर ये बोलो ,
झुककर घुटने ना टेकेंगें !
...........................................
खिल्ली खूब उड़ा ले  मौत ,
हमको भी आता है जीना ,
जब तक साँस चलेगी अपनी ,
जीने की मौज़े लूटेंगें !
...........................................
घुट-घुट कर  न रोज़ मरेँगेँ ,
गम को नाक चिढ़ाएंगें ,
भले ज़िंदगी रूठे हमसे
हरगिज़ न पर हम रूठेंगें !

शिखा कौशिक 'नूतन'



2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (22-12-2014) को "कौन सी दस्तक" (चर्चा-1835) पर भी होगी।
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Asha Joglekar ने कहा…

सलाम जीजिविषा को।