समर्थक

रविवार, 17 दिसंबर 2017

'किन्तु मित्र का मौन खल जाता है '

कड़वा , खट्टा  ,मिर्चीला
हर बोल चल जाता है ,
विकट क्षणों में किन्तु मित्र का
मौन  खल जाता है  !
......................................
 करे समर्थन मित्र हमारा
उससे रहे अपेक्षा ,
साथ हमारे डटा रहे वो
सबकी करे उपेक्षा ,
कभी-कभी विश्वासी को
विश्वास छल जाता है .
विकट क्षणों में किन्तु मित्र का
मौन खल जाता है !
...................................................
सरस-सरस बातें कर लेना
नहीं मित्रता होती ,
राम की भांति बालि-वध कर
जग की निंदा सहती ,
मित्र-भाव में देख मिलावट
तन-मन जल जाता है .
विकट क्षणों में किन्तु मित्र का
मौन खल जाता है !
...........................................
मिले समर्पित मित्र कोई
ये हर मन की अभिलाषा ,
लेकिन पहले स्वयं बांच लें
मीता की परिभाषा ,
मित्रों के बलिदानों से
 संकट भी टल जाता है .
विकट क्षणों में किन्तु मित्र का
मौन खल जाता है .

शिखा कौशिक 'नूतन'