समर्थक

गुरुवार, 2 अगस्त 2018

''बंजर होती बिरादरी ''

''बंजर होती बिरादरी ''

संभवतः
बस एक ही बिरादरी है ;
जो नहीं होती इकट्ठी
चीखने को साथ ,
अन्याय के खिलाफ ,चाहे
'पुण्य '
 को डस ले पाप !
यहाँ प्रतिस्पर्धा ने ले लिया है
ईर्ष्या का रूप ,
धवल सुमुख हो उठें हैं
विकृत  कुरूप |
न्याय  के नाविक
हर्षित हैं साथी  के डूबने  पर ,
किन्तु स्वयं भी तो सवार हैं
असंख्य छेदों वाली नावों पर !
चलो
बस एक दिन के लिए
हौसला कर , भूलकर स्वार्थ ,
इकट्ठा हो  जाओ  ,
आँखों पर बंधी भय की  काली पट्टी हटाकर;
और चापलूसी की मदिरा की बोतलें लुढ़काकर ;
मुंह  में भरे बारूद  के  साथ
फट  पड़ो
उस अन्यायी सत्ता पर
जिसने सोख ली है तुम्हारी कलम से
सच्चाई  की स्याही  ,
और तोड़ डाली है तुम्हारी हिम्मत की रीढ़
ताकि  सत्य  के साथ सीधा न खड़ा  हो कोई  |
मासूमों के खून से
आने लगी क्यों वतन परस्ती की सुगंध ,
'प्रसून' क्यों लगने लगे कंटक ?
क्यों तितलियों के मंडराने पर
गुलशन ने लगाया है प्रतिबन्ध ?
इन प्रश्नों की तपिश को
अन्यायियों के ठहाकों से डरकर
ठंडा मत हो जाने दो ,
इन सड़ांध से भरे पोखरों को
समंदर मत हो जाने दो |
लिखो  वो  जो देखो ,
कहो  वो जो  भोगो ,
दिखाओ बिना डरे जनता  की
नंगी छाती पर घोपें गए नफरत के जहरीले खंजर ;
सावधान ,
वरना तुम्हारी बिरादरी हो जाएगी बंजर ||

- डॉ शिखा कौशिक नूतन 

बुधवार, 18 जुलाई 2018

मन का भूगोल !!!

जिंदगी के जोड़ घटाने में
रिश्तों का गणित
अक्सर जरूरत के वक़्त
जाने क्यों शून्य हो जाता है
और मन का भूगोल
सब समझ कर भी
कुछ नया खोजने लग जाता है।

बुधवार, 11 जुलाई 2018

कुछ बहाना लाज़िमी था

दूर जाना लाज़िमी था,
कुछ बहाना लाज़िमी था।

अश्क़ कर देते बयाँ ग़म,
मुस्कुराना लाज़िमी था।

बेदिलों के पहलू में दिल
टूट जाना लाज़िमी था

आ गए थे दूर घर से
लौट जाना लाज़िमी था।

पिंजरें में क़ैद बुलबुलों का
फड़फड़ाना लाज़िमी था।

बेमग़ज़ कुछ हाथ थे,
संग खाना लाज़िमी था।

बहरी सियासत को जगाने
इक धमाका लाज़िमी था।
~~~~~~~~~
शालिनी