समर्थक

सोमवार, 20 अगस्त 2012

हसरतों के बीज


अधूरी हसरतों की 
अनगिनत लकीरें देखी
उसकी हथेली में 
उसकी पेशानी पर 
वो आसमा छूना चाहती थी कभी 
लहराना चाहती थी 
अपनी हसरतों ,अपनी अभिलाषाओं 
का पंचम वहां 
पर उसके पैरों के नीचे 
से सीढ़ी खींच ली   गई 
एक दिन पंख फैला कर 
उन्मुक्त गगन में 
उड़ते हुए सितारे गिनने चाहे उसने 
पर पंख कुतर दिए गए 
अपने होंसले और 
क्षमता से विस्तृत सागर 
को पार करना चाहा उसने 
पर पिंजरे में कैद कर दिया 
अपना हुनर दिखाना चाहा उसने 
पर मंच पर चढ़ने नहीं दिया 
क्यूंकि वो एक स्त्री थी 
उसकी हसरतों का क्या मूल्य है यहाँ ??
उसे तो अपने मन के आँगन में 
हसरतों के बीज बोने का भी 
अधिकार नहीं 
अगर बो दिए और पौधे 
निकल भी आये तो रोप देंगे वो 
और नाकाबिलियत का पट्टा
डालकर गले में 
बैठा देंगे किसी घर के कौने में 
और फिर एक दिन 
जल जायेंगी उसकी माथे की 
अधूरी हसरतों की लकीरें 
उसके जिस्म के साथ 
और पटाक्षेप हो जाएगा 
उसके अध्याय का 
*******
अब तक होता आया जो बस अब और नहीं और नहीं !! 

5 टिप्‍पणियां:

शिखा कौशिक 'नूतन ' ने कहा…

क्यूंकि वो एक स्त्री थी
उसकी हसरतों का क्या मूल्य है यहाँ ??

very true .

हमारीवाणी ने कहा…

आपके ब्लॉग पर लगा हमारीवाणी क्लिक कोड ठीक नहीं है और इसके कारण हमारीवाणी लोगो पर क्लिक करने से आपकी पोस्ट हमारीवाणी पर प्रकाशित नहीं हो पाएगी. कृपया लोगिन करके सही कोड प्राप्त करें और इस कोड की जगह लगा लें. क्लिक कोड पर अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें.

http://www.hamarivani.com/news_details.php?news=41

टीम हमारीवाणी

kshama ने कहा…

Blog to bahut badhiya hai...iske pathak kam kyon hain?Anusaran karta bhee .....?

मनोज कुमार ने कहा…

सबकी हसरतें होती हैं, और सबका मूल्य होता है।

शिखा कौशिक 'नूतन ' ने कहा…

शमा जी -इस ब्लॉग पर आपके शुभागमन के लिए शुक्रिया .यह ब्लॉग अभी १२ अगस्त२०१२ को सृजित किया है .आप भी इससे जुड़ें .आभार