समर्थक

मंगलवार, 4 दिसंबर 2012

जागरण जंक्शन फोरम से साभार

 Hindi Blogs, Best Indian Blog

 READ THIS POST ON GIVEN LINK AND SHARE YOUR VIEWS -

 क्या मातृत्व के नाम पर कोख का व्यापार है सेरोगेसी?

                                          शिखा कौशिक 


2 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

विचारणीय सार्थक प्रस्तुति हेतु आभार .

Rajesh Kumari ने कहा…

मेरे विचार से यह इंसान का व्यक्तिगत मामला है इससे जरूरत मंदों को फायदा है जो संतान नहीं पैदा कर सकते उनको भी जिसको पैसा चाहिए उसको भी जो बच्चा पैदा करती है वो ये काम स्वेच्छा से करती है पहले से ही मेंटली प्रिपेयर होती है अगर उसका ममत्व बहुत ऊँचा होता तो वो पहले से ही तैयार नहीं होती फिर भी मैं इस तरह कमाने वाले धन को उस कोठे पर बैठ कर कमाने वाले धन से हजार गुना बेहतर सम्मान जनक मानती हूँ