समर्थक

शनिवार, 22 दिसंबर 2012

धधकी ज्वाला - हाइगा में





धधकी ज्वाला - हाइगा में

 ऋता शेखर 'मधु'

ऋता शेखर 'मधु'

 

 


3 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

बहुत सही.सार्थक अभिव्यक्ति भारतीय भूमि के रत्न चौधरी चरण सिंह

fialka012 ने कहा…

क्रिसमस अधिक है, मोमबत्ती की रोशनी और उत्सव से ज्यादा है. यह मिठाई दोस्ती है कि सभी वर्ष दौर चमकता की भावना है. यह सावधानी और दयालुता है. यह समझने के लिए, शांति के लिए पुनर्जन्म उम्मीद है. और लोगों के अच्छा होगा. मेरी क्रिसमस

Rajesh Kumari ने कहा…

असुरक्षित मन और क्या सोचेगा खोखले वायदे हैं ,सार्थक हाइकु बधाई ऋत| जी