समर्थक

सोमवार, 14 दिसंबर 2015

'वो' भयभीत नहीं होने देता '


Image result for free victory images
बसा हुआ हर उर में है 'वो' ;
भयभीत नहीं होने देता ,
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
......................................
रुको नहीं बढ़ते जाओ ;
चीर अंधेरों के चीरो ,
बलिदानों की झड़ी लगा दो ,
किंचित नहीं झुको वीरों ,
वीर-प्रसूता के मस्तक को
लज्जित न होने देता !
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
......................................
घोर निराशा जब बंधन में ;
बांध रही हो जीवन को ,
हीन-भावना जकड रही हो
मानव के अंतर्मन को ,
आशाओं के दीप जगा
तम विजित नहीं होने देता !
विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !
......................................
मृत्यु से भी आँख मिला लो ;
भर देता हम में साहस ,
मिटटी को भी स्वर्ण बना दे ;
ऐसा वो निर्मल पारस ,
मर्यादित को धर्म-मार्ग से
विचलित न होने देता !
 विषम घड़ी में भी शत्रु की
जीत नहीं होने देता !


डॉ. शिखा कौशिक

3 टिप्‍पणियां:

kuldeep thakur ने कहा…

जय मां हाटेशवरी....
आप ने लिखा...
कुठ लोगों ने ही पढ़ा...
हमारा प्रयास है कि इसे सभी पढ़े...
इस लिये आप की ये खूबसूरत रचना....
दिनांक 16/12/2015 को रचना के महत्वपूर्ण अंश के साथ....
पांच लिंकों का आनंद
पर लिंक की जा रही है...
इस हलचल में आप भी सादर आमंत्रित हैं...
टिप्पणियों के माध्यम से आप के सुझावों का स्वागत है....
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
कुलदीप ठाकुर...

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर ..

kavita verma ने कहा…

badiya rachna