समर्थक

रविवार, 26 अप्रैल 2015

''कुदरती इन जलजलों से कांपती इंसानियत ''


Image result for earthquake images of nepal
हर तरफ मायूसियाँ ,चेहरों पर उदासियाँ ,
थी जहाँ पर महफ़िलें ;है वहां तन्हाईयाँ !
******************************************
कुदरती इन जलजलों से कांपती इंसानियत ,
उड़ गयी सबकी हंसी ;बस गम की हैं गहराइयाँ
****************************************************
क्यूँ हुआ ऐसा ;इसे क्या रोक हम न सकते थे ?
बस इसी उलझन में बीत जाती ज़िन्दगानियाँ !
***********************************************
है ये कैसी बेबसी अपने बिछड़ गए सभी
बुरा हो वक़्त ,साथ छोड़ जाती हैं परछाइयाँ !
********************************************
ज़लज़ले जो बन कहर छीन लेती ज़िन्दगी
ज़लज़ले को मौत कहने में नहीं बुराइयाँ !
********************************************
हे प्रभु कैसे कठोर बन गए तुम इस समय ?
क्या तुम्हे चिंता नहीं मिल जाएँगी रुसवाइयां !
**************************************
शिखा कौशिक 'नूतन'

3 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

yah bhagwan ka nyay hai aur yahi khelne ko insan dharti par aata hai .bhavatmak abhivyakti .aabhar

Shalini Kaushik ने कहा…

yah bhagwan ka nyay hai aur yahi khelne ko insan dharti par aata hai .bhavatmak abhivyakti .aabhar

Asha Joglekar ने कहा…



हमारी ही करनी का फल है जो भुगत रहे हैं। प्रकृति भी कितनी सहे ।