समर्थक

मंगलवार, 7 अप्रैल 2015

हम इंसान हो गए -लघु कथा

Image result for free images of bride and groom
हम इंसान हो गए -लघु कथा

खुशबू कालेज जा रही थी . बीच रास्ते में उसकी सेंडिल की हील निकल गयी . पीछे से आती एक बाइक रुकी .खुशबू ने मुड़कर देखा तो ये साहिल था .साहिल बाइक से उतरा और उसकी सेंडिल हाथ में लेता हुआ बोला -चलो इसे ठीक करा देता हूँ पास में ही एक मोची बैठता है .खुशबू थोड़ा लज्जित होते हुए बोली -अरे आप क्यों मेरे सेंडिल हाथ में लेते हैं किसी ने देख लिया तो क्या कहेगा कि नीच जाति की लड़की की सेंडिल एक ब्राह्मण लड़का हाथ से उठा रहा है .साहिल ठहाका लगाता हुआ बोला -'' चुप से चलती हो या तुम्हें भी उठाना पड़ेगा .'' इस घटना के दो साल बाद साहिल और खुशबू ने प्रेम-विवाह किया तब खुशबू साहिल को वरमाला पहनाते हुए बोली थी -'' आज से तुम मेरी नीच जाति के हो गए या मैं ब्राह्मण हो गयी ?'' साहिल ने उसकी वरमाला पहनते हुए कहा था -'' आज से हम इंसान हो गए .

डॉ.शिखा कौशिक 'नूतन'

2 टिप्‍पणियां:

Asha Joglekar ने कहा…

बहुत बडी बात है इंसान होना।सुंदर कहानी।

Emmanuel ने कहा…

God bless you!
Immanuel