समर्थक

शनिवार, 25 अप्रैल 2015

''दिल मेरा तैयार है ''


Image result for free pictures of flower hearts
ग़म का समंदर पी जाने को दिल मेरा तैयार है !
मर -मर कर यूँ जी जाने को दिल मेरा तैयार !
........................................................................
दर्द नहीं अब दिल में होता किस्मत की मक्कारी पर ,
ठोकर खाकर उठ जाने को दिल मेरा तैयार है !
.........................................................................
जितना शातिर बन सकता है बन जाने दो दुश्मन को ,
रोज़ नए धोखे खाने को दिल मेरा तैयार है !
......................................................................
लुटते अरमानों की लाशें हमनें देखी चुप रहकर ,
सदमें सारे सह जाने को दिल मेरा तैयार है !
...................................................
आँसू -आहें नहीं निकलती 'नूतन' ग़म से टकराने पर ,
अब फौलादी बन जाने को दिल मेरा तैयार है !


शिखा कौशिक 'नूतन'

4 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

आँसू -आहें नहीं निकलती 'नूतन' ग़म से टकराने पर ,
अब फौलादी बन जाने को दिल मेरा तैयार है !
very very nice

Emmanuel ने कहा…

God bless you!
Immanuel

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (27-04-2015) को 'तिलिस्म छुअन का..' (चर्चा अंक-1958) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

dj ने कहा…

दिल मेरा भी तैयार है। बहुत बहुत बढ़िया शिखा जी। मेरे दिल के करीब होगी है आपकी ये रचना।