समर्थक

सोमवार, 7 अप्रैल 2014

! रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

! रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !
किलकारी मारें बजाकर खन खन कंगना ,
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !
...................................................................

मैय्या कौशल्या उर आनंद लहरे उमड़े ,
पैय्या चले तो पकड़ने को वे दौड़े ,
लेती बलैय्या आँचल में हैं छिपती ललना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !
........................................................

चारों भैय्या मिलकर माखन चुराते हैं ,
बड़े हैं भाई राम सबको खिलाते हैं ,
माटी के बर्तन फोड़ें आये पकड़ में ना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !
.........................................................

राम के मुख की शोभा बरनि न जाये है ,
सुन्दरता देख उन्हें खुद पर लजाये है ,
शोभा की खान राम किसी से क्या तुलना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !
                                          .........................................

शिखा कौशिक 'नूतन '

2 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

nice post .! रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

Anita ने कहा…

भावभीनी रचना..