समर्थक

मंगलवार, 21 जनवरी 2014

दिन-रात हो रही है कातिल की हिफाज़त !


शबनम से जलन होती शोलों की हिमायत ,
फूलों से चुभन होती काँटों की हिमायत !
.....................................................
अपनों पे भरोसा नहीं गैरों से शिकायत ,
ऐसे नहीं चल पायेगी दुकान-ए-सियासत !
............................................
तोहमत उन्ही के सिर पर जो क़त्ल हो गए ,
दिन-रात हो रही है कातिल की हिफाज़त !
..............................................
वे हाथ जोड़ मांगते वोट-नोट सब ,
हैरान खुदा देखकर गुंडों की शराफत !
.......................................................................
इंसानियत की बस्ती को आग लगाकर ,
'नूतन' करे दरिंदा मसीहा की खिलाफत !
शिखा कौशिक 'नूतन'

1 टिप्पणी:

shyam gupta ने कहा…

क्या बात है.....सुन्दर ग़ज़ल..