समर्थक

बुधवार, 15 जनवरी 2014

''....बेटी ही बचाएगी .....''


युग बदला है ...तुम भी बदलो !
बेटी को भी जीने का हक़ दो !
दो-दो कुलों का ये मान बढ़ाएगी !
बेटी ही बचाएगी ..बेटी ही बचाएगी ..!
...............................................
नन्हीं -नन्हीं कलियों को यूँ न कुचलो कोख में !
जन्म इनको लेने दो खेलने दो गोद में !
ये ही तो खिलकर जगत महकाएंगी !
बेटी ही बचाएगी ..बेटी ही बचाएगी ..!
................................................
इनको पढ़ाओ ...आगे बढ़ाओ !
इन पर भी अपना प्यार लुटाओ !
बदले में सौ गुना तुम को लौटायेगी !
बेटी ही बचाएगी ..बेटी ही बचाएगी ..!
...............................................
बेटे व् बेटी में भेद न करना !
बेटी करेगी सच हर सपना !
मौका दो खुशियों का परचम फहराएगी !
बेटी ही बचाएगी ..बेटी ही बचाएगी ..!
शिखा कौशिक 'नूतन'

कोई टिप्पणी नहीं: