समर्थक

गुरुवार, 29 अगस्त 2013

शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !

Hindu_temple : Indian temple architecture at sunset
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !

आस्था -अनास्था  का द्वन्द उर में चल रहा ,
आस के ही गर्भ में निराशा भ्रूण पल रहा ,
भक्ति -भाव भक्त की चिता के संग है जल रहा ,
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !
*******************************
मृत्यु ने तांडव किया लील लिए भक्त ,
हाँ सृजन से दोगुना विध्वंस है सशक्त ,
मंदिरों में बिखर गया भक्त का ही रक्त ,
नहीं बढ़ा प्रभु तुम्हारा रक्षा हेतु हस्त ,
नास्तिक-आस्तिक की दुर्दशा पर हंस रहा !
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !
********************
है कोई सत्ता प्रभु की या ये केवल भ्रम ?

ज्वार उठ रहा पुन: क्षुब्ध अंतर्मन ,
मुंह छिपाकर घूमती भक्ति को आती शर्म ,
है यही परिणाम तो कोई क्यूँ करे सद्कर्म ?
देर क्या ? सबेर क्या ?अंधेर हो रहा !
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !
****************************
सहस्त्र नाम जप ,व्रत ,कीर्तन ,भजन ,
अखंड पाठ ,आरती  ,नित्य स्मरण ,
क्यूँ किये किसके लिए ?क्या सब हैं निरर्थक ?
साकार -निराकार की क्या धारणा है व्यर्थ ?
क्षत-विक्षत हैं भक्त शव क्या 'वो' है सो रहा ?
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !

शिखा कौशिक 'नूतन '


3 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

सहस्त्र नाम जप ,व्रत ,कीर्तन ,भजन ,
अखंड पाठ ,आरती ,नित्य स्मरण ,
क्यूँ किये किसके लिए ?क्या सब हैं निरर्थक ?
साकार -निराकार की क्या धारणा है व्यर्थ ?
क्षत-विक्षत हैं भक्त शव क्या 'वो' है सो रहा ?
शांत रस रौद्र में प्रचंड हो बदल रहा !
bahut bhavatamk abhivyakti .nice

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज शुक्रवार (30-08-2013) को राज कोई खुला या खुली बात की : चर्चा मंच 1353में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Rajesh Kumari ने कहा…

वाह बहुत ही सशक्त रचना आज की सच्चाई का दर्पण दिखाती हुई दिल से बधाई