समर्थक

रविवार, 15 फ़रवरी 2015

बीवी .... शौहर


बीवी और शौहर

Woman victim of domestic violence and abuse. Husband beats his wife


रात भर जागी  बीवी दर्द से जो तडपा शौहर ;
कभी बीवी के लिए क्यों नहीं जगता शौहर ?
................................................................

करे जो काम बीवी फ़र्ज़ हैं उसको कहते ;
अपने हर  काम को अहसान क्यों कहता शौहर ?
...........................................................

रहो हद में ये हुक्म देता बीवी को ;
मगर खुद पर कोई बंदिश नहीं रखता शौहर .
.....................................................

नहीं है हक़ बीवी को उठा ले आँखें ;
जरा सी बात पर क्यों हाथ उठाता शौहर ?
......................................................

शौहर के लिए दुनिया छोड़ देती बीवी ;
कहे  दुनिया  तो उसी को छोड़ता शौहर .


शिखा कौशिक 'NUTAN  '

कोई टिप्पणी नहीं: