समर्थक

रविवार, 23 फ़रवरी 2014

”मृत्यु की अभिलाषा !”



टूटे जब स्वप्नों की माला आशा भये निराशा ,
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
............................................................
चिर-वियोग जब प्रियजनों का सहना पड़ता भारी ,
पल-पल पीड़ा शूल चुभाती निर्मम अत्याचारी ,
बहते अश्रु मुख पर लिखते जीवन की परिभाषा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
.................................................................
हर लेता जब रावण सीता पंचवटी में छल से ,
कमल-नयन तब भर आते व्यथित हो अश्रु-जल से ,
धीर-वीर-गम्भीर राम भी झेलें गहन हताशा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
............................................................
भेद न पाएं लक्ष्य जब-जब लज्जित होते हैं हम ,
शत्रु छोड़ें व्यंग्य-वाण घायल होता अंतर्मन ,
अपमानों के जोखिम वाला जीवन एक तमाशा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !

शिखा कौशिक 'नूतन'

2 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

चिर-वियोग जब प्रियजनों का सहना पड़ता भारी ,
पल-पल पीड़ा शूल चुभाती निर्मम अत्याचारी ,
बहते अश्रु मुख पर लिखते जीवन की परिभाषा !
तब रह जाती शेष केवल मृत्यु की अभिलाषा !
bahut marmik bat kahi hai aapne .

shilpa bhartiya ने कहा…

सुन्दर सार्थक प्रस्तुति शिखाजी ..बहुत उम्दा लाजवाब!सादर..