समर्थक

शनिवार, 21 सितंबर 2013

सिले लबों के टाँके सब टूटने लगे

सिले लबों के टाँके सब टूटने लगे ,




मर्द के गुरूरी कोठे सब टूटने लगे !



**************************************



ज़ुल्म के जिन पिजरों में कैदी थे ख्वाब ,



जंग खाकर पिंजरे वे सब टूटने लगे !



************************************



सहकर सितम खिलाई मैंने वफ़ा की रोटी ,



बर्दाश्त के अब चूल्हे सब टूटने लगे !



************************************



कैदखाना था मेरा चौखट व् दीवारें ,



बढ़ते मेरे वजूद से सब टूटने लगे !



************************************



’नूतन’ यकीन कर बदली मेरी सूरत ,



मर्दाना डर के आईने सब टूटने लगे !



शिखा कौशिक ‘नूतन’



कोई टिप्पणी नहीं: