समर्थक

शनिवार, 16 मार्च 2013


महाभारत  पर  हाइकू


                महाभारत
                अन्याय के खिलाफ
                बिछी बिसात    
       
                                                     ***

                भीष्म तुम भी
                देखते रहे सब
                क्यों चुपचाप?          

                                                     ***

                स्वयं को हार
                द्रौपदी को लगाया
                कैसे दाँव पे?              

                                                     ***

                                                    भूली नहीं वो
                होना चीर-हरण
                लिया बदला            

                                                     ***

                भूलो ना कभी
                होना चीर-हरण
                बना मरण               

                                                     ***

                                                   नारी, बेचारी!
                द्रौपदी सीता पड़ीं
                कितनी भारी           

                                                     *** 

6 टिप्‍पणियां:

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

sarthak prastuti ke sath is blog par aapka shubhagaman huaa hai .hardik aabhar

Sarika Mukesh ने कहा…

धन्यवाद शिखाजी! होली पर अग्रिम हार्दिक शुभकामनाएँ!
सादर/सप्रेम,
सारिका मुकेश

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर भाव लिए बेहतरीन हाइकू,सादर आभार.

Dr.vandana singh ने कहा…

बहुत भी सार्थक और सटीक हाइकु...

Rajesh Kumari ने कहा…

बहुत सुंदर श्रेष्ठ हाइकु हेतु हार्दिक बधाई आपको|

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

कम शब्द बडी बात
यही है हाइकू की सौगात.
होली की शुभकामनाएँ...